lovepoems

download poems, shayari, hd images, hd poems images

Hindi Love Poem for Her – Tum Ho

 

मेरे दिन और रात में तुम हो
मेरी हर साँस में तुम हो ।
अब जो दिलदार हो किसी और की तो सुन लो !
दिल तोड़ना अच्छी बात नही
बिखर के निखरना इतना आसान नही ,
थोड़ी सी खुशियां छिनी है बस
जीने का अरमान नही ।

मेरे दिन और रात में तुम हो
मेरी हर साँस में तुम हो ।
पर मुझे तेरा इंतेजार भी नही ।
अब जो मेहबूब हो किसी औऱ की तो सुन लो !
महज एक तारा हो तुम कोई चाँद नही
हाँ मैंने कभी कहा था
रुख़सारो पर यूँ बाल न बिखराया करो !
बादलो में चाँद कहीं छिप जाता है ।
पर क्या करे इश्क में
रेगिस्तान भी उपवन सा नजर आता है

तुम मेरी जमीन तुम मेरा आसमान हो
पर अब जो दिलदार हो किसी और कि तो सुन लो!
तेरी रुसवाइयों के किस्से सरेआम हो गए
तेरे साथ हम भी बदनाम हो गए ।
कभी शायरों की महफ़िल में मत आ जाना
वरना कहोगे नीलाम हो गए ।

मगर अब जो हमसफर हो किसी और कि फिर भी सुन लो
मेरे दिन रात में तुम हो
मेरे अंधकार और प्रकाश में तुम हो ।

-प्रियांशु शेखर

Mere din aur raat mein tum ho
Meri har sans mein tum ho
Ab jo dildar ho kisi aur ki to sun lo
Dil todna achi baat nahi
Bikhar ke nikhrana itna aasan nahi
Thodi si khushiya chahni hain bas
Jeene ka arman nahi

Mehaz ek tara ho tum koi chand nahi
Haan maine kabhi kha tha
Ruksaron par yoon baal na bikhraya karo
Badalo mein chand kahi chhip jata hain
Par kya kare ishq mein
Registaan bhi upvan sa nazar aata hain

Tum meri zameen tum mera aasmaan ho
Par ab jo dildar ho kisi aur ki to sun lo
Teri rusvaiyon ke kisse sare aam ho gaye
Tere sath hum bhi badnaam ho gaye
Kabhi shayaron ki mehfil mein mat jana
Varna kahoge neelaam ho gaye

Magar ab jo humsafar ho kisi aur ki fir bhi sun lo
Mere din raat mein tum ho
Mere andhkar aur prakash mein tum ho

 

Updated: January 16, 2018 — 12:20 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

lovepoems © 2018 Frontier Theme